New Shayari

Best Barish Shayari in Hindi |Barish Status in Hindi

Khud Ko Itna Bhi Na Bachaya Kr,
Barisen Hua Kare To Bheeg Jaya Kar.

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर,
बारिशें हुआ करे तो भीग जाया कर।

Jab Bhi Hogi Pahli Barish, Tumko Samne Payenge,
Wo Boondo Se Bhara Chehra Tumhara Hum Dekh To Payenge.

जब भी होगी पहली बारिश, तुमको सामने पायेंगे,
वो बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम देख तो पायेंगे।

Kal Raat Maine Sare Gam Aasman Ko Suna Diye,
Aaj Main Chup Hun Aur Aasman Baras Raha Hai.

कल रात मैंने सारे ग़म आसमान को सुना दिए,
आज मैं चुप हूँ और आसमान बरस रहा है।

Iss Bheege Bheege Mausam Mein Thi Aas Tumhare Aane Ki,
Tumko Agar Fursat Hi Nahi Toh Aag Lage Barsaton Ko.

इस भीगे भीगे मौसम में थी आस तुम्हारे आने की,
तुमको अगर फुर्सत ही नहीं तो आग लगे बरसातों को।

Tapish Aur Bard Gai In Chand Boondo Ke Baad,
Kaale Syah Badlo Ne Bhi Bas Yun Hi Bahlaya Mujhe.

तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद,
काले सियाह बादलो ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे।

Main Tere Hijr Ki Barsaat Me Kab Tak Bheegun,
Aise Mausam Me To Deewarein Bhi Gir Jati Hain.

मैं तेरे हिज्र की बरसात में कब तक भीगूँ,
ऐसे मौसम में तो दीवारे भी गिर जाती हैं।

Ab Bhi Barsat Ki Raton Me Badan TootTa Hai,
Jaag Uthti Hain Ajab Khwahisen Angdaiyon Ki.

अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है,
जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाईयों की।

Hairat Se Takta Hai Sahra Barish Ke Najrane Ko,
Kitni Door Se Aai Hai Ye Ret Se Hath Milane Ko.

हैरत से ताकता है सहरा बारिश के नज़राने को,
कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को।

Majbooriyan Odh Ke Nikalta Hun Ghar Se Aajkal,
Barna Shauk To Aaj Bhi Hai Barishon Me Bheegne Ka.

मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशो में भीगने का।

Koi To Barish Aisi Ho Jo Tere Sath Barse Mohsin,
Tanha To Meri Aankhein Hr Roz Barsti Hein…

कोई तो बारिश ऐसी हो जो तेरे साथ बरसे मोसिन,
तन्हा तो मेरी ऑंखें हर रोज़ बरसाती हैं।

Aaj Fir Mausam Nam Hua Meri Aankho Ki Tarah,
Shayad Baadalo Ka Bhi Dil Kisi Ne Toda Hoga.

आज फिर मौसम नम हुआ मेरी आँखों की तरह,
शायद बादलो का भी दिल किसी ने तोड़ा होगा।

AbKe Barish Mein To Ye Kaar-E-Ziyaan Hona Hi Tha,
Apni Kachchi Bastiyon Ko Be-Nishaan Hona Hi Tha.

अबके बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था।

Khud Bhi Rota Hai Mujhe Bhi Rulata Hai,
Ye Barish Ka Mausam Uski Yaad Dila Jata.

खुद भी रोता है मुझे भी रुला के जाता है,
ये बारिश का मौसम उसकी याद दिला के जाता है।

Ye Barishen Bhi Kam Jaalim Nahin “Yaadon Ki Bauchhaar” Tumhari,
Aur Intezaar Mein Jazbaat Mere Seelan Khate Hain.

ये बारिशें भी कम जालिम नहीं “यादों की बौछार” तुम्हारी,
और इंतज़ार में जज़्बात मेरे सीलन खाते हैं।

Tumhe Barish Pasand Hai Mujhe Barish Me Tum,
Tumhe Hansna Pasand Hai Mujhe Haste Hue Tum,
Tumhe Bolna Pasand Hai Mujhe Bolte Huye Tum,
Tumhe Sab Kuch Pasand Hai Aur Mujhe Bas Tum.

तुम्हें बारिश पसंद है मुझे बारिश में तुम,
तुम्हें हँसना पसंद है मुझे हस्ती हुए तुम,
तुम्हें बोलना पसंद है मुझे बोलते हुए तुम,
तुम्हें सब कुछ पसंद है और मुझे बस तुम।

Ye Mausam Bhi Kitna Pyara Hai,
Karti Ye Hawayen Kuch Ishara Hai,
Jara Samjho Inke Jazbaton Ko,
Ye Kah Rahin Hai Kisi Ne Dil Se Pukara Hai.

ये मौसम भी कितना प्यारा है,
करती ये हवाएं कुछ इशारा है,
जरा समझो इनके जज्बातों को,
ये कह रही हैं किसी ने दिल से पुकारा है।

Aaj Mausam Kitna Khush Ganwar Ho Gaya,
Khatam Sabhi Ka Intezar Ho Gaya,
Barish Ki Boonden Giri Kuch Is Tarah Se,
Laga Jaise Asmaan Ko Zameen Se Pyar Ho Gaya.

आज मौसम कितना खुश गंवार हो गया,
खत्म सभी का इंतज़ार हो गया,
बारिश की बूंदे गिरी कुछ इस तरह से,
लगा जैसे आसमान को ज़मीन से प्यार हो गया।

Wo Mere Ru-Ba-Ru Aya Bhi To Barsaat Ke Mousam Mein,
Mere Aansoo Beh Rahe The Wo Barsat Samajh Betha.

वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में,
मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा।

Rahne Do Ki Ab Tum Bhi Mujhe Parh Na Sakoge,
Barsat Me Kagaj Ki Tarh Bheeg Gaya Hun Main.

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे,
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं।

Khud Bhi Rota Hai Mujhe Bhi Rula Deta Hai,
Ye Barish Ka Mausam Uski Yaad Dila Deta Hai.

खुद भी रोता है मुझे भी रुला देता है,
ये बारिश का मौसम उसकी याद दिला देता है।

Iss Dafa To Barishein Rukti Hi Nahin Faraz,
Humne Kya Aansu Piye Ke Sare Mausam Ro Pade.

इस दफा तो बरिसें रूकती ही नहीं फ़राज़,
हमने क्या आँसू पिए के सारे मौसम रो पड़े।

Barishen Kuchh Iss Tarah Se Hoti Rahin Mujh Pe,
Khwahishen Sookhti Rahin Aur Palken Bheegti Rahin.

बारिशें कुछ इस तरह से होती रहीं मुझ पे,
ख्वाहिशें सूखती रहीं और पलकें रोतीं रहीं।

Toot Padati Theen Ghatayen Jin Ki Aankhein Dekh Kar,
Wo Bhar Barsaat Me Tarase Hain Paani Ke Liye.

टूट पड़ती थीं घटाएँ जिन की आँखें देख कर,
वो भरी बरसात में तरसे हैं पानी के लिए।

Barish Aur Mohabbat Dono Hi Yaadgar Hote Hain,
Barish Me Jism Bheegta Hai Aur Mohabbat Me Aankhen.

बारिश और मोहब्बत दोनो ही यादगार होते हैं,
बारिश में जिस्म भीगता है और मोहब्बत में आँखें।

Pahle Barish Hoti Thi To Yaad Aate The,
Ab Jab Yaad Aate Ho To Barish Hoti Hai.

पहले बारिश होती थी तो याद आते थे,
अब जब याद आते हो तो बारिश होती है।

Ek To Ye Raat, Uff Ye Barsaat,
Ek To Sath Nahi Tera, Uff Ye Dard Behisab
Kitni Ajeeb Si Hai Baat,
Mere Hi Bas Me Nahi Mere Ye Halat.

एक तो ये रात, उफ़ ये बरसात,
इक तो साथ नही तेरा, उफ़ ये दर्द बेहिसाब
कितनी अजीब सी है बात,
मेरे ही बस में नही मेरे ये हालात।

Barish Ka Yeh Mausam Kuchh Yaad Dilata Hai,
Kisi Ke Saath Hone Ka Ehsaas Dilata Hai,
Fiza Bhi Sard Hai Yaadein Bhi Taaza Hai,
Yeh Mausam Kisi Ka Pyaar Dil Me Jagata Hai.

बरिश का यह मौसम कुछ याद दिलाता है,
किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है,
फिजा भी सर्द है यादें भी ताज़ा हैं,
यह मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता है।

Gar Meri Chahaton Ke Mutaabik,
Zamane Ki Har Baat Hoti,
To Bas Main, Hota Tum Hoti,
Aur Sari Raat Barsaat Hoti.

गर मेरी चाहतों के मुताबिक,
जमाने की हर बात होती,
तो बस मैं, होता तुम होती,
और सारी रात बरसात होती।

Ai Barish Jara Tham Ke Baras,
Jab Wo Aa Jaye To Jam Ke Baras,
Pehle Na Baras Ke Wo Aa Na Sake,
Fir Itna Baras Ki Wo Ja Na Sake.

ऐ बारिश जरा थम के बरस,
जब वो आ जाये तो जम के बरस,
पहले न बरस के वो आ न सके,
फिर इतना बरस के वो जा न सके।

Baras Jaye Yahan Bhi Kuch Noor Ki Barishen ,
Ke Emaan Ke Shishon Pe Badi Gard Jami Hai,
Us Tasveer Ko Bhi Kar De Taza,
Jinki Yaad Humare Dil Me Dhudhli Si Padi Hai.

बरस जाये यहाँ भी कुछ नूर की बारिशें,
के ईमान के शीशों पे बड़ी गर्द जमी है,
उस तस्वीर को भी कर दे ताज़ा,
जिनकी याद हमारे दिल में धुंधली सी पड़ी है।

Mat Puchho Kitni Mohabbat Hai,
Mujhe Unse,
Barish Ki Boond Bhi Agar Unhe Chhoo Jaati Hai,
To Dil Me Aag Lag Jati Hai.

मत पूछो कितनी मोहब्बत है
मुझे उनसे,
बारिश की बूँद भी अगर उन्हें छू जाती है,
तो दिल में आग लग जाती है।

Inn Baadalon Ka Mizaaj Bhi…
Mere Mehboob Jaisa Hai,
Kabhi Toot Ke Barasta Hai,
Kabhi Berukhi Se Gujar Jata Hai.

इन बादलों का मिज़ाज भी…
मेरे महबूब जैसा है,
कभी टूट के बरसता है,
कभी बेरुखी से गुजर जाता है।

Aaj Halki Halki Barish Hai,
Aaj Sard Hawa Ka Raqs Bhi Hai,
Aaj Phool Bhi Nikhre Nikhre Hain,
Aaj Unn Me Tumhara Aks Bhi Hai.

आज हल्की हल्की बारिश है,
आज सरद हवा का रक्स भी है,
आज फूल भी निखरे निखरे हैं,
आज उनमे तुम्हारा अक्स भी है।

Kahin Fisal Na Jao Jara Sambhal Ke Chalna,
Mausam Barish Ka Bhi Hai Aur Mohabbat Ka Bhi.

कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना,
मौसम बारिस का भी है और मोहब्बत का भी।

Barishon Mein Chalne Se Ek Baat Yaad Aati Hai,
Fisalne Ke Dar Se Wo Mera Hath Thaam Leta Tha.

बारिश में चलने से एक बात याद आती है,
फिसलने के डर से वो मेरा हाथ थाम लेता था।

Tere Khayalo Me Chalte Chalte Kahin Fisal Na Jayun Main,
Apni Yaadon Ko Rok Le Ke Shahar Me Barish Ka Mausam Hai.

तेरे ख्यालों में चलते चलते कहीं फिसल न जाऊं मैं,
अपनी यादों को रोक ले के शहर में बारिश का मौसम है।

Baras Rahi Thi Barish Baahar,
Aur Wo Bheeg Raha Tha Mujhme.

बरस रही थी बारिश बाहर,
और वो भीग रहा था मुझमें।

Peene Se Kar Chuka Tha Main Tauba Yaaro,
Baadalo Ka Rang Dekhkar Niyat Badal Gayi.

पीने से कर चुका था मैं तौबा यारो,
बादलों का रंग देखकर नियत बदल गई।

Yahii Ek Fark Hai Tere Or Mere Sahar Ki Barish Me,
Tere Yahan ‘Jaam’ Lagta Hai, Mere Yahan ‘Jaam’ Lagte Hain.

यही एक फर्क है तेरे और मेरे शहर की बारिश में
तेरे यहाँ ‘जाम’ लगता है, मेरे यहाँ ‘जाम’ लगते हैं।

Barisho Se Adab-E-Mohobbat Seekho Faraz,
Agar Ye Ruth Bhi Jayen To Barasti Bohot Hian.

बारिशों से अदब-ए-मोहब्बत सीखो फ़राज़,
अगर ये रूठ भी जाएँ, तो बरसती बहुत हैं।

Poochhte The Na Kitna Pyar Hai Tumhe Humse
Lo Ab Gin Lo… Barish Ki Ye Boonden.

पूछते थे ना कितना प्यार है तुम्हे हमसे,
लो अब गिन लो… बारिश की ये बूँदें।

Hum Bheegte Hain Jis Tarah Se Teri Yaadon Me Doobkar,
Iss Baarish Me Kahan Wo Kashish Tere Khayalon Jaisi.

हम भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों में डूबकर,
इस बारिश में कहाँ वो कशिश तेरे ख्यालों जैसी।

Ajab Lutf Ka Manzar Dekhta Rahta Hun Barish Mein,
Badan Jalta Hai Aur Main Bheegta Rahta Hun Barish Mein.

अजब लुत्फ़ का मंज़र देखता रहता हूँ बारिश में,
बदन जलता है और मैं भीगता रहता हूँ बारिश में।

Barish Ki Boondo Me Jhalakti Hai Tashveer Unki Aur,
Hum Unse Milne Ki Chahat Me Bheeg Jaate Hain.

बारिश की बूँदों में झलकती है तस्वीर उनकी और
हम उनसे मिलनें की चाहत में भीग जाते हैं।

Leave a Comment