Nazre Karam Mujh Par Itna Na Kar,
Ki Teri Mohabbat Ke Liye Baagi Ho Jaaun,
Mujhe Itna Na Pila Ishq-E-Jaam Ki,
Main Ishq Ke Jahar Ka Aadi Ho Jaaun.

नज़रे करम मुझ पर इतना न कर,
की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,
मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,
मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।

Usne Mohabbat, Mohabbat Se Jyada Ki Thi,
Humne Mohabbat Usse Bhi Jyada Ki Thi,
Ab Wo Kise Kahenge Mohabbat Ki Intehaan,
Humne Shuruat Hi #Intehaan Se Jyada Ki Thi.

उसने मोहब्बत, मोहब्बत से ज्यादा की थी,
हम ने मोहब्बत उससे भी ज्यादा की थी,
अब वो किसे कहेंगे मोहब्बत की इन्तेहाँ,
हमने शुरुआत ही #इन्तेहाँ से ज्यादा की थी।

Use Kah Do Wo Mera Hai Kisi Aur Ka Ho Nahin Sakta,
Bahut Nayab Hai Mere Liye Wo Koi Aur Us Jaisa Ho Nahin Sakta,
Tumhare Saath Jo Guzare Wo Mausam Yaad Aate Hain,
Tumhare Baad Koi Mausam Suhana Ho Nahin Sakta.

उसे कह दो वो मेरा है किसी और का हो नहीं सकता,
बहुत नायाब है मेरे लिए वो कोई और उस जैसा हो नहीं सकता,
तुम्हारे साथ जो गुज़ारे वो मौसम याद आते हैं,
तुम्हारे बाद कोई मौसम सुहाना हो नहीं सकता।

Hamen Seene Se Lagakar Hamari Sari Kasak Door Kar Do,
Ham Sirf Tumhare Ho Jaye Hamen Itna Majaboor Kar Do.

हमें सीने से लगाकर हमारी सारी कसक दूर कर दो,
हम सिर्फ तुम्हारे हो जाऐ हमें इतना मजबूर कर दो।

Apni Kalam Se Dil Se Dil Tak Ki Baat Karte Ho,
Seedhe Seedhe Kah Kyon Nahin Dete Ham Se #Pyar Karte Ho.

अपनी कलम से दिल से दिल तक की बात करते हो
सीधे सीधे कह क्यों नहीं देते हम से #प्यार करते हो।

Ye Zaroori Nahin Hai Ki Har Baat Par Tum Mera Kaha Mano,
Dahleej Par Rakh Di Hai Chahat Aur Ab Aage Tum Jaano.

ये ज़रूरी नहीं है की हर बात पर तुम मेरा कहा मानो,
दहलीज पर रख दी है चाहत और अब आगे तुम जानो।

Kadak Sardi Mein Jalti Hui Alaav Se Ho Tum,
Aanch Had Se Zyada Ho To Bhi Door Nahin Raha Jata.

कड़क सर्दी में जलती हुई अलाव से हो तुम,
आँच हद से ज़्यादा हो तो भी दूर नहीं रहा जाता।

Tapakti Hai Nigahon Se… Jhalakti Hai Adaon Se,
Mohabbat Kaun Kahta Hai Ki Pahchani Nahin Jati ?

टपकती है निगाहों से… झलकती है अदाओं से,
मोहब्बत कौन कहता है की पहचानी नहीं जाती ?

Ham Se Na Ho Sakegi Mohabbat Ki Numaish,
Bas Itna Jante Hai Tumhe Chahte Hain Ham.

हम से न हो सकेगी मोहब्बत की नुमाइश,
बस इतना जानते है तुम्हे चाहते है हम।

Ghayal Kar Ke Mujhe Usne Poochha,
Karoge Kya Phir Mohabbat Mujhse,
Lahoo-Lahoo Tha Dil Mera Magar
Honthon Ne Kaha Beintha-Beintha.

घायल कर के मुझे उसने पूछा,
करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे,
लहू-लहू था दिल मेरा मगर
होंठों ने कहा बेइंतहा-बेइंतहा।

Khvaahish-E-Zindagi Bas
Itani Si Hai Ab Meri,
Ki Saath Tera Ho Aur
Zindagi Kabhi Khatm Na Ho.

ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस
इतनी सी है अब मेरी,
कि साथ तेरा हो और
ज़िंदगी कभी खत्म न हो।

Nigahon Se Kheechi Hai Tasveer Maine,
Jara Apni Tasveer Aakar To Dekho,
Tumhin Ko In Aankho Mein Tumko Dikhaoon,
In Aankho Me Aankhe Milakar To Dekho.

निगाहों से खीची है तस्वीर मैने,
जरा अपनी तस्वीर आकर तो देखो,
तुम्हीं को इन आँखो में तुमको दिखाऊँ,
इन आँखो मे आँखे मिलाकर तो देखो।

Bin Bole Jo Tum Kahte Ho,
Bin Bole Hi Wo Sun Loon Main,
Bharke Tumko In Aankhon Mein,
Kuchh Khwaab Naye Se Bun Loon Main.

बिन बोले जो तुम कहते हो
बिन बोले ही वो सुन लूँ मैं,
भरके तुमको इन आँखों में
कुछ ख्वाब नए से बुन लूँ मैं।

Nahin Hai Ab Koi Justaju Is Dil Mein E Sanam,
Meri Pahli Aur Aakhiri Aarzoo Bas Tum Ho.

नहीं है अब कोई जुस्तजू इस दिल में ए सनम,
मेरी पहली और आखिरी आरज़ू बस तुम हो।

Ye Jaruri To Nahin Ki Teri Khaas Rahoon Main, Bas
Mahafooz Rahe Tu,Taumr Tere Aaspas Rahun Main.

ये जरुरी तो नहीं कि तेरी ख़ास रहूँ मैं, बस
महफूज़ रहे तू, ताउम्र तेरे आसपास रहूँ मैं।

Tumhen Yakeen Na Ho Ham Par To Bichhad Kar Dekh Lo,
Tum Miloge Sabase, Magar Hamari Hi Talash Mein.

तुम्हें यकीन न हो हम पर तो बिछड़ कर देख लो,
तुम मिलोगे सबसे, मगर हमारी ही तलाश में।

Ho Ke Tum Mere Mujhko Mukammal Kar Do,
Adhoore-Adhoore Ab Ham Khud Ko Bhi Achchhe Nahi Lagte.

हो के तुम मेरे मुझको मुकम्मल कर दो,
अधूरे-अधूरे अब हम ख़ुद को भी अच्छे नहीं लगते।

Kitna Haseen Ittefaaq Tha Teri Gali Mein Aane Ka,
Kisi Kaam Se Aaye The… Kisi Kaam Ke Na Rahe.

कितना हसीन इत्तेफाक़ था तेरी गली में आने का,
किसी काम से आये थे… किसी काम के ना रहे।

Meri Mohabbat Thi Ye Ya Phir Deewanagi Ki Intha,
Ki Tere Hi Paas Se Guzar Gaya Tere Hi Khyal Se.

मेरी मोहब्बत थी यह या फिर दीवानगी की इन्तहा,
कि तेरे ही पास से गुज़र गया तेरे ही ख्याल से।

Khade-Khade Sahil Par Hamne Shaam Kar Di,
Apna Dil Aur Duniya Aap Ke Naam Kar Di,
Ye Bhi Na Socha Kaise Guzaregi Zindagi,
Bina Soche-Samjhe Har Khushi Aapke Naam Kar Di.

खड़े-खड़े साहिल पर हमने शाम कर दी,
अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी,
ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी,
बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी।

Maine Har Ek Saans Apni Tumhare Naam Kar Di,
Logo Mein Ye Zindagi Badnaam Kar Di,
Ab Ye Aaina Bhi Kis Kaam Ka Mere,
Maine To Apni Parchhai Bhi Tumhare Naam Kar Di.

मैंने हर एक सांस अपनी तुम्हारे नाम कर दी,
लोगो में ये ज़िन्दगी बदनाम कर दी,
अब ये आइना भी किस काम का मेरे,
मैंने तो अपनी परछाई भी तुम्हारे नाम कर दी।

Aarazoo Vasl Ki Rakhti Hai Pareshaan Kya Kya,
Kya Bataun Ki Mere Dil Mein Hain Armaan Kya Kya,
Gam Azeejon Ka Haseeno Ki Judayi Dekhi,
Dekhen Dikhalae Abhi Gardish-E-Dauraan Kya Kya.
~ Akhtar Shaiairani

आरज़ू वस्ल की रखती है परेशाँ क्या क्या,
क्या बताऊँ कि मेरे दिल में हैं अरमाँ क्या क्या,
ग़म अज़ीज़ों का हसीनों की जुदाई देखी,
देखें दिखलाए अभी गर्दिश-ए-दौराँ क्या क्या।

Hontho Par Dekho Phir Aaj Mera Naam Aaya Hai,
Lekar Naam Mera Dekho Mahaboob Kitna Sharmaya Hai,
Poochhe Unse Meri Aankhen Kitna Ishq Hai Mujhse,
Palke Jhukake Vo BoleKi Meri Har Saans Me Bas Tu Hi Samaya Hai.

होंठो पर देखो फिर आज मेरा नाम आया है,
लेकर नाम मेरा देखो महबूब कितना शरमाया है,
पूछे उनसे मेरी आँखें कितना इश्क है मुझसे,
पलके झुकाके वो बोले कि मेरी हर साँस में बस तू ही समाया है।

Mere Hontho Par Lafz Bhi Ab Teri Talab Leke Aate Hain,
Tere Jikr Se Mahkte Hain Tere Sajde Me Bikahar Jate Hain.

मेरे होंठो पर लफ्ज़ भी अब तेरी तलब लेकर आते हैं,
तेरे जिक्र से महकते हैं तेरे सजदे में बिखर जाते हैं।

Wo Pila Kar Jaam Hontho Se Apni Mohabbat Ka,
Ab Kahte Hain Nashe Ki Adat Achhi Nahi Hoti.

वो पिला कर जाम होंठो से अपनी मोहब्बत का, 
अब कहते हैं नशे की आदत अच्छी नहीं होती।

Wo Surkh Lab Aur Un Par Jalim Angdaiyan,
Tu Hi Bata Ye Dil Marta Na To Kya Karta.

वो सुर्ख लब और उनपर जालिम अंगडाईयां,
तू ही बता ये दिल मरता ना तो क्या करता।

Baithe Raho Saamne Dil Ko Qaraar Aayega,
Jitnaa Dekhenge Tumhe Utnaa Hi Pyar Aayega.

बैठे रहो सामने दिल को करार आयेगा,
जितना देखेंगे तुम्हे उतना ही प्यार आयेगा।

Chahat Itni Rakho Ki Jee Sabhal Jaye, Ab
Is Kadar Bhi Na Chaaho Ki Dam Nikal Jaaye.

चाहत इतनी रखो की जी सभल जाए , अब
इस कदर भी ना चाहो कि दम निकल जाये।

Door Hokar Bhi Jo Shakhs Samaya Hai Meri Rooh Mein,
Paas Vaalon Par Vo Kitna Asar Rakhta Hoga.

दूर होकर भी जो शख्स समाया है मेरी रूह में,
पास वालों पर वो कितना असर रखता होगा।

Aisa Kya Bolun Ki Tere Dil Ko Chhoo Jaye,
Aisi Kisse Dua Maangu Ki Tu Meri Ho Jaye,
Tujhe Paana Nahin Tera Ho Jaana Hai Mannat Meri,
Aisa Kya Kar Doon Ki Ye Mannat Poori Ho Jaye.

ऐसा क्या बोलूं कि तेरे दिल को छू जाए,
ऐसी किससे दुआ मांगू कि तू मेरी हो जाए,
तुझे पाना नहीं तेरा हो जाना है मन्नत मेरी,
ऐसा क्या कर दूं कि ये मन्नत पूरी हो जाए।

Ishq Ke Ye Kaise Afsaane Huye,
Khud Nazaron Mein Apni Begane Huye,
Ab Jamane Ki Nahin Koi Parwaah Hamen,
Ishq Mein Tere Is Kadar Deewane Huye.

इश्क के ये कैसे अफ़साने हुए,
खुद नज़रों में अपनी बेगाने हुए,
अब ज़माने की नहीं कोई परवाह हमें,
इश्क़ में तेरे इस कदर दीवाने हुए।

Wo Sapna Phir Se Sajane Chala Hun,
Umeedo Ke Sahare Dil Lagane Chala Hun,
Pata Hai Ki Anjaam Bura Hi Hoga Mera,
Phir Bhi Kisi Ko Apa Banane Chala Hun.

वो सपना फिर से सजाने चला हूँ,
उमीदों के सहारे दिल लगाने चला हूँ,
पता है कि अंजाम बुरा ही होगा मेरा,
फिर भी किसी को अपना बनाने चला हूँ।

Kya Chahun Rab Se Tumhen Pane Ke Baad,
Kiska Karoon Intezaar Tere Aane Ke Baad,
Kyu Moahabbat Mein Jaan Luta Dete Hain Log,
Maine Bhi Yeh Jana Ishq Karne Ke Baad.

क्या चाहूँ रब से तुम्हें पाने के बाद,
किसका करूँ इंतज़ार तेरे आने के बाद,
क्यों मोहब्बत में जान लुटा देते हैं लोग,
मैंने भी यह जाना इश्क़ करने के बाद।

Tum Mujhe Mil Jao Itna Kaafi Hai,
Meri Har Saans Ne Bas Yahi Dua Maangi Hai,
Na Jaane Kyon Dil Kheencha Jata Hai Teri Or,
Kya Tumne Bhi Mujhe Paane Ki Koi Dua Maangi Hai.

तुम मुझे मिल जाओ इतना काफी है,
मेरी हर साँस ने बस यही दुआ माँगी है,
न जाने क्यों दिल खींचा जाता है तेरी ओर,
क्या तुमने भी मुझे पाने की कोई दुआ माँगी है।

Zindagi Jeene Ke Liye Mujhe Dua Chaahiye,
Us Par Kismat Ki Bhi Wafa Chaahiye,
Khuda Ke Raham Se Sab Kuchh Hai Mere Paas,
Bas Pyar Karne Ke Liye Aap Jaisa Chaahiye.

ज़िंदगी जीने के लिए मुझे दुआ चाहिए,
उस पर किस्मत की भी वफ़ा चाहिए,
खुदा के रहम से सब कुछ है मेरे पास,
बस प्यार करने के लिए आप जैसा चाहिए।

Jaati Nahi Hai In Aankhon Se Soorat Teri,
Na Jaati Hai Dil Se Mohabbat Teri,
Tere Jaane Ke Baad Hua Hai Mahasoos Hamen,
Aur Bhi Jyada Hai Hamen Zaroorat Teri.

जाती नहीं है इन आँखों से सूरत तेरी,
ना जाती है दिल से मोहब्बत तेरी,
तेरे जाने के बाद हुआ है महसूस हमें,
और भी ज्यादा है हमें ज़रूरत तेरी।

Bhul Jata Hu Main SabKuchh Aapke Siwa, Ye Kya Mujhe Hua Hai,
Kya Isi Ehsaas Ko Duniya Ne Ishq Ka Naam Diya Hai.

भूल जाता हूँ मैं सबकुछ आपके सिवा, यह क्या मुझे हुआ है,
क्या इसी एहसास को दुनिया ने इश्क़ का नाम दिया है।

Hame To Kabool Hai Har Dard Har Takleef Teri Chahat Mein,
Bas Itna Bata De, Kya Tujhe Bhi Meri Mohabbat Kabool Hai?

हमें तो कबूल है हर दर्द… हर तकलीफ़ तेरी चाहत में,
बस इतना बता दे क्या तुझे मेरी मोहब्बत क़बूल है?

Shikayat Nahi Hai Raat Se Bs Tumhi Se Kuch Kahna Hai,
Bas Tum Thoda Thahar Jao Raat Kab Thaharati Hai.

शिकायत नहीं है रात से बस तुम्ही से कुछ कहना है,
बस तुम थोड़ा ठहर जाओ रात कब ठहरती है।

Apane Ishq Mein Kar De Madahosh Is Tarah,
Ki Hosh Bhee Aane Se Pahale Izaazat Maange.

अपने इश्क़ में कर दे मदहोश इस तरह,
कि होश भी आने से पहले इज़ाज़त माँगे।

Ishq Ka Koi Rang Nahin Phir Bhi Vo Rangeen Hai,
Mohabbat Ka Koi Chehra Nahin Phir Bhi wo Haseen Hai.

इश्क का कोई रंग नहीं फिर भी वो रंगीन है,
मोहब्बत का कोई चेहरा नहीं फिर भी वो हसीन है।

Ai Sanam… Hogi Kitni Chaahat Us Dil Mein,
Jo Khud Hi Maan Jaaye Kuch Pal Khafa Hone Ke Baad.

ऐ सनम… होगी कितनी चाहत उस दिल में,
जो खुद ही मान जाये कुछ पल खफा होने के बाद।

Mat Dekho Hamen… Tum Is Kadar,
Ishq Tum Kar Baithoge Aur Ilazaam Hampar Aayega.

मत देखो हमें… तुम इस कदर,
इश्क़ तुम कर बैठोगे और इलज़ाम हमपर आयेगा।

Aa Ke Meri Sanson Mein Bikhar Jao To Achchha Hoga,
Ban Ke Rooh Mere Jism Mein Utar Jao To Achchha Hoga,
Kisi Raat Teri God Mein Sir Rakh Ke So Jaaun,
Phir Us Raat Ki Kabhi Subah Na Ho To Achchha Hoga.

आ के मेरी साँसों में बिखर जाओ तो अच्छा होगा,
बन के रूह मेरे जिस्म में उतर जाओ तो अच्छा होगा,
किसी रात तेरी गोद में सिर रख के सो जाऊं,
फिर उस रात की कभी सुबह ना हो तो अच्छा होगा।

Tera Ehsaan Ham Kabhi Chuka Nahin Sakte,
Tu Agar Maange Jaan To Inkaar Kar Nahin Sakte,
Maana Ki Zindagi Leti Hai Imtihaan Bahut,
Tu Agar Ho Hamare Saath To Ham Kabhi Haar Nahin Sakte.

तेरा एहसान हम कभी चुका नहीं सकते,
तू अगर माँगे जान तो इंकार कर नहीं सकते,
माना कि ज़िंदगी लेती है इम्तिहान बहुत,
तू अगर हो हमारे साथ तो हम कभी हार नहीं सकते।

Kisi Patthar Mein Moort Hai, Koi Patthar Ki Moort Hai,
Lo Ham Ne Dekh Li Duniya, Jo Itni Khoobasoorat Hai,
Duniya Apna Na Samajhe Kabhi, Par Mujhe Khabar Hai,
Ki Tujhe Meri Zaroorat Hai Aur Mujhe Teri Zaroorat Hai.

किसी पत्थर में मूर्त है, कोई पत्थर की मूर्त है,
लो हम ने देख ली दुनिया, जो इतनी खूबसूरत है,
दुनिया अपना न समझे कभी पर मुझे खबर है,
कि तुझे मेरी ज़रूरत है और मुझे तेरी ज़रूरत है।

Log Kahte Hain Usko Khuda Ki Ibaadat Hai,
Ye Meri Samajh Mein To Ek Jahalat Hai,
Raat Jaag Ke Gujre, Dil Ko Chain Na Aaye,
Jara Batao Doston Kya Yahi Mohabbat Hai.

लोग कहते हैं उसको खुदा की इबादत है,
ये मेरी समझ में तो एक जहालत है,
रात जाग के गुजरे, दिल को चैन न आए,
जरा बताओ दोस्तों क्या यही मोहब्बत है।

Kya Aap Nahi Jante Ho Sanam,
Dil Ka Dard Dabta Nahin Hai Dabane Se,
Aapko Mohabbat Ka Izhaar Karna Hi Padega,
Kyuki Mohabbat Chhupti Nahin Chhupane Se.

क्या आप नहीं जानते हो सनम,
दिल का दर्द दबता नहीं है दबाने से,
आपको मोहब्बत का इज़हार करना ही पड़ेगा,
क्योंकि मोहब्बत छुपती नहीं छुपाने से।

Kabhi Teri Baaten Bhool Jaoon, Kabhi Tere Lafz Bhool Jaoon,
Is Kadar Mohabbat Hai Tujhase Ke Apni Zaat Bhool Jaoon,
Tere Paas Se  Uth Ke Jab Main Chal Doon Ai Mere Hamadam,
Jaate Jaate Khud Ko Tere Paas Bhool Jaoon.

कभी तेरी बातें भूल जाऊं, कभी तेरे लफ्ज़ भूल जाऊं,
इस कदर मोहब्बत है तुझसे के अपनी ज़ात भूल जाऊं,
तेरे पास से  उठ के जब मैं चल दूँ ऐ मेरे हमदम,
जाते जाते खुद को तेरे पास भूल जाऊं।

Mohabbat Bhi Sharab Ke Nasha Jaisi Hai Dosto,
Karen To Mar Jayen Aur Chhode To Kidhar Jayen.

मोहब्बत भी शराब के नशा जैसी है दोस्तों,
करें तो मर जाएँ और छोड़े तो किधर जाएँ।

Mere Dil Ke Kisi Kone Mein Ab Koi Jagah Nahin,
Ki Tasveer-E-Yaar Hamne Har Taraf Laga Rakhi Hai.

मेरे दिल के किसी कोने में अब कोई जगह नहीं,
कि तस्वीर-ए-यार हमने हर तरफ लगा रखी है।

Milti Hain Najren Tujhse To Is Kadar Kho Jaate Hain,
Jaise Bachche Bhare Baazaar Mein Kho Jaate Hain.

मिलती हैं नजरें तुझसे तो इस कदर खो जाते हैं,
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं।
~ Munawwar Rana

Tujhko Hazar Sharm Sahi Mujh Ko Laakh Zabt,
Mohabbtat Wo Raaz Hai Ki Chhupaaya Na Jayega.

तुझको हज़ार शर्म सही मुझ को लाख ज़ब्त,
मोहब्बत वो राज़ है कि छुपाया न जाएगा।

Main Tere Pyar Mein Itna Gum Hone Laga Hun Sanam,
Jahan Bhi Jaaun Bas Tumhen Hi Samane Pane Laga Hun,
Halaat Yah Hain Ki Har Chehre Mein Tu Hi Tu Dikhta Hai,
Ai Mere Khuda Ab To Main Khud Ko Bhi Bhulane Laga Hun.

मैं तेरे प्यार में इतना ग़ुम होने लगा हूँ सनम,
जहाँ भी जाऊं बस तुम्हें ही सामने पाने लगा हूँ,
हालात यह हैं कि हर चेहरे में तू ही तू दिखता है,
ऐ मेरे खुदा अब तो मैं खुद को भी भुलने लगा हूँ।

Chain Kho Jaane Ka Izahaar Zaroori To Nahin,
Yah Tamaasha Sare Aam Jaruri To Nahin,
Mujhe Tha Pyaar Teri Rooh Se Aur Ab Bhi Hai,
Tere Jism Se Ho Koi Sarokaar Zaroori To Nahin.

चैन खो जाने का इज़हार ज़रूरी तो नहीं,
यह तमाशा सरे आम जरुरी तो नहीं,
मुझे था प्यार तेरी रूह से और अब भी है,
तेरे जिस्म से हो कोई सरोकार ज़रूरी तो नहीं।

Main Had Se Guzar Jaun To Maaf Karna,
Tere Dil Mein Utar Jaun To Maaf Karana,
Raat Mein Tere Deedar Ki Khatir,
Agar Main Sab Kuchh Bhool Jaun To Maf Karna.

मैं हद से गुज़र जाऊं तो माफ़ करना,
तेरे दिल में उतर जाऊं तो माफ़ करना,
रात में तेरे दीदार की खातिर,
अगर मैं सब कुछ भूल जाऊं तो माफ़ करना।

Kaise Kahen Kuchh Bhi Kaha Nahin Jaata,
Dard Milta Hai Par Saha Nahin Jaata,
Ho Gaya Hai Ishq Aapse Be-Intihaan
Ki Ab To Bin Dekhe Aapko Jiya Nahin Jaata.

कैसे कहें कुछ भी कहा नहीं जाता,
दर्द मिलता है पर सहा नहीं जाता,
हो गया है इश्क आपसे बे-इन्तिहाँ
कि अब तो बिन देखे आपको जिया नहीं जाता।

Ittefaaq Se Yeh Hadsa Hua Hai,
Chahat Se Mera Vaasta Hua Hai,
Door Rah Kar Bada Betab Tha Dil,
Paas Aa Kar Bhi Haal Bura Hua Hai.

इत्तेफ़ाक़ से यह हादसा हुआ है,
चाहत से मेरा वास्ता हुआ है,
दूर रह कर बड़ा बेताब था दिल,
पास आ कर भी हाल बुरा हुआ है।

Na-Jane Kab Wo Khoobsuratn Raat Hogi,
Jab Unki Nigahen Hamari Nigahon Ke Saath Hongi,
Baithe Hain Ham Us Raat Ke Intazaar Mein,
Jab Unake Hontho Ki Surkhiyan Hamare Hontho Ke Saath Hongi.

न-जाने कब वो खूबसूरत रात होगी,
जब उनकी निगाहें हमारी निगाहों के साथ होंगी,
बैठे हैं हम उस रात के इंतज़ार में,
जब उनके होंठों की सुर्खियां हमारे होंठों के साथ होंगी।